पुष्यभूति वंश या वर्धन वंश : हर्ष वर्धन

पुष्यभूति वंश या वर्धन वंश : हर्ष वर्धन (Pushyabhuti Dynasty) वर्धन वंश (Vardhana Dynasty) को पुष्यभूति वंश (Pushyabhuti Dynasty) भी कहा जाता है lगुप्त काल से लगभग 100 वर्ष के बाद उत्तर भारत में एक नई शक्ति का उदय हुआ जो पुष्यभूति वंश या वर्धन वंश के नाम से प्रसिद्ध हुए। उसकी राजधानी थानेश्वर (वर्तमान …

पुष्यभूति वंश या वर्धन वंश : हर्ष वर्धन Read More »

गुप्त वंश – गुप्त काल (Gupta Empire)

गुप्त वंश – गुप्त काल (Gupta Empire) गुप्त कालदिल्ली में महरौली स्थित लौह स्तंभ में चंद्र नामक शासक की विधियों का वर्णन है। इस चंद्र नामक शासक की पहचान इतिहासकारों ने गुप्त वंश के शासक चंद्रगुप्त द्वितीय से करते हैं। आपको जानकर आश्चर्य होगा कि आज 1600 साल बीत जाने के बाद भी इसमें में …

गुप्त वंश – गुप्त काल (Gupta Empire) Read More »

मौर्य साम्राज्य (Mourya Dynasty)

मौर्य साम्राज्य बौद्ध स्रोतों के अनुसार नंद वंश के शासक धनानंद द्वारा अपमानित आचार्य कौटिल्य ने बालक चंद्रगुप्त को राजकीलकम नामक खेल खेलते हुए देखा। बालक में विलक्षण नेतृत्व प्रतिभा देखकर चाणक्य ने उसे अपना शिष्य बना लिया और अपने साथ तक्षशिला ले जाकर विविध कलाओं की शिक्षा दी। चंद्रगुप्त ने चाणक्य की कूटनीति एवं …

मौर्य साम्राज्य (Mourya Dynasty) Read More »

महाजनपद

महाजनपद की ओरजन से जनपदवैदिक काल में किसी कुल , जनजाती या लोगों के समूह को जन कहा जाता था। प्रत्येक जन का राजा होता था। लगभग 600 ईसा पूर्व में जन का राजा अब जनपद का राजा माना जाने लगा। जनपद का शाब्दिक अर्थ है जन के बसने की जगह अथार्त ऐसा भूखंड जहां …

महाजनपद Read More »

बौद्ध धर्म तथा जैन धर्म

बौद्ध धर्म तथा जैन धर्म | छठी शताब्दी ईस्वी पूर्व का भारत ( धार्मिक आंदोलन) | बौद्ध धर्म तथा जैन धर्म का उदय होने के कारण छठी शताब्दी ईस्वी पूर्व में छोटे-छोटे जनपद बड़े राज्य बनने की होड़ में संघर्ष करते रहे थे। इससे प्रजा अपने को असुरक्षित महसूस करने लगी थी। पुराने समय में …

बौद्ध धर्म तथा जैन धर्म Read More »

इतिहास जानने के स्रोत

इतिहास जानने के स्रोत | इतिहास जानने के साधन | इतिहास के कालखंड का निर्धारण इतिहास जानने के स्रोत क्या क्या होते हैं? इतिहासकार किन स्रोतों के उपयोग से इतिहास के कालखंड का पता लगता है l इतिहास जानने के साधन के साधन क्या है |इतिहास के कालखंड का निर्धारण कैसे होता है | हजारों …

इतिहास जानने के स्रोत Read More »

वैदिक सभ्यता (Vedic Civilization)

सिंधु घाटी सभ्यता के पश्चात भारत में जिस सभ्यता का विकास हुआ उसे आर्य सभ्यता या वैदिक सभ्यता के नाम से जाना जाता है l वैदिक सभ्यता के विषय में जानकारी वेदों से प्राप्त होती है जिसमें ऋग्वेद सबसे प्राचीन और सबसे महत्वपूर्ण वेद माना जाता है l वैदिक काल से तात्पर्य उस युग से …

वैदिक सभ्यता (Vedic Civilization) Read More »

सिंधु घाटी सभ्यता (Indus Valley Civilization)

सिंधु घाटी सभ्यता || Indus Valley Civilization ||हड़प्पा सभ्यता || Harappan Civilization || सिंधु सरस्वती सभ्यता || प्रस्तावना हड़प्पा सभ्यता या सिंधु घाटी सभ्यता यह विश्व की प्राचीन नदी घाटी सभ्यताआों में से एक प्रमुख सभ्यता है l सिंधु घाटी सभ्यता, हड़प्पा सभ्यता और सिंधु सरस्वती सभ्यता के नाम से भी जानी जाती है l …

सिंधु घाटी सभ्यता (Indus Valley Civilization) Read More »

विश्व कि प्रमुख नदी घाटी सभ्यताएं (River Valley Civilization)

नदी घाटी सभ्यताएं नदी घाटी सभ्यताएं || विश्व कि प्रमुख नदी घाटी सभ्यताएं || River Valley Civilization || हड़प्पा सभ्यता || मेसोपोटामिया सभ्यता || मिस्र सभ्यता ||क्रीट सभ्यता || चीनी सभ्यता सभ्यता क्या होती है? (What is Civilization?) मानव तब सभ्य कहा जाता है l जब वह अपने जीवन के तरीकों को बदल देता है …

विश्व कि प्रमुख नदी घाटी सभ्यताएं (River Valley Civilization) Read More »

पाषाण काल (Stone Age)

भारत-में-प्रारम्भिक-मानव || पाषाण काल Stone Age || पुरापाषाण काल || Paleolithic Era || मध्य पाषाण काल || Mesolithic Era || नवपाषाण काल || Neolithic Era || मानव में परिवर्तन मानव शास्त्रियों के अनुसार आज से लगभग 2 करोड वर्ष पूर्व मानव विकास की प्रक्रिया प्रारंभ हुई थी। इस समय मनुष्य में कुछ महत्वपूर्ण शारीरिक परिवर्तन …

पाषाण काल (Stone Age) Read More »